https://amzn.to/3URbXJD google.com, pub-7605138174956848, DIRECT, f08c47fec0942fa0 pub-7605138174956848
top of page

सोशल मीडिया झूठ का पुलिंदा

अपडेट करने की तारीख: 24 जून 2023

सोशल मीडिया हमारे दैनिक जीवन का एक अभिन्न अंग बन गया है। इसने हमारे एक-दूसरे से जुड़ने और संवाद करने के तरीके में क्रांति ला दी है।

दुर्भाग्य से, सोशल मीडिया भी गलत सूचना और फर्जी खबरों के लिए प्रजनन स्थल बन गया है

। इस ब्लॉग में, हम पता लगाएंगे कि सोशल मीडिया झूठ का पुलिंदा क्यों है और इसका हमारे समाज पर क्या प्रभाव पड़ता है।




social media. facebook, instagram
social media

गलत सूचना का उदय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे कि फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और अन्य ने नाटकीय रूप से लोगों के समाचार और

सूचना का उपभोग करने के तरीके को बदल दिया है। दुर्भाग्य से, इन प्लेटफार्मों ने गलत सूचना और गैर-तथ्यात्मक जानकारी के प्रसार के

लिए एक अवसर भी प्रदान किया है। उपयोगकर्ता सामग्री की सटीकता की पुष्टि किए बिना लेख साझा करने की अधिक संभावना रखते हैं।

इस प्रवृत्ति के कारण सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर व्यापक रूप से साझा की जा रही फर्जी खबरों और साजिश के सिद्धांतों में वृद्धि हुई है।

सोशल मीडिया एल्गोरिदम की भूमिका सोशल मीडिया एल्गोरिदम गलत सूचना के प्रसार में सहायता करते हैं।

ये एल्गोरिदम उपयोगकर्ताओं को ऐसी सामग्री दिखाने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं जो आकर्षक है,

इसकी सटीकता की परवाह किए बिना। ऐसे पोस्ट जो बहुत अधिक जुड़ाव उत्पन्न करते हैं,

उन्हें अक्सर एल्गोरिथम द्वारा प्रचारित किया जाता है, जिससे वे उपयोगकर्ताओं के लिए अधिक दृश्यमान हो जाते हैं।



Instagram, social media
social media

इसका परिणाम गलत सूचनाओं के प्रसार में होता है क्योंकि उपयोगकर्ता ऐसी पोस्ट को अधिक साझा करते हैं, भले ही वे सच न हों।

जनता की राय पर सोशल मीडिया का प्रभाव सोशल मीडिया का जनमत पर महत्वपूर्ण प्रभाव है। सोशल मीडिया के आगमन के साथ,

लोगों के पास पहले से कहीं अधिक जानकारी तक पहुंच है। हालाँकि, कई उपयोगकर्ता इस बात से अनजान हैं कि इनमें से अधिकांश जानकारी गलत या विकृत है।

नतीजतन, उनकी राय अक्सर गलत सूचनाओं से प्रभावित होती है। इस घटना का राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक मुद्दों पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है।



सोशल मीडिया के खतरे सोशल मीडिया पर झूठी सूचनाओं के व्यापक प्रसार के कई परिणाम हो सकते हैं। सबसे पहले, यह समाचार और सूचना के पारंपरिक स्रोतों में विश्वास को मिटा देता है। दूसरे, यह

social media, news, samachar
facebook

के बीच निंदक और अविश्वास की संस्कृति को बढ़ावा देता है। तीसरा, फेक न्यूज और साजिश के सिद्धांतों का उदय सामाजिक अशांति पैदा कर सकता है और सामाजिक सामंजस्य को नुकसान पहुंचा सकता है। अंत में, इसके वास्तविक दुनिया के परिणाम हो सकते हैं, जैसे चिकित्सकीय रूप से गलत जानकारी का प्रसार जो हानिकारक प्रथाओं की ओर ले जाता है। क्या किया जा सकता है? सोशल मीडिया पर गलत सूचनाओं के प्रसार से निपटने के तरीके खोजना महत्वपूर्ण है। एक तरीका है झूठी सूचना के खतरों के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना। दूसरा तरीका सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर पारदर्शिता और जवाबदेही को बढ़ावा देना है। फैक्ट-चेकिंग मैकेनिज्म की शुरुआत और सोशल मीडिया के बढ़ते नियमन से भी फर्जी खबरों के प्रसार को कम करने में मदद मिल सकती है। निष्कर्ष सोशल मीडिया ने हमारे संवाद करने के तरीके में क्रांति ला दी है, लेकिन यह गलत सूचना और नकली समाचारों के लिए एक प्रजनन स्थल भी बन गया है। झूठी सूचनाओं के प्रसार का समाज पर दूरगामी प्रभाव पड़ता है, और यह है इसके अलावा हर किसी के हिसाब से उनके लाइक, शेयर,

सब्सक्रिप्शन का मतलब है कि सभी साइट्स फ्री सर्विस दे रही हैं और जब आप साइट पर जाते हैं तो पता चलता है कि आपको पैसे देने पड़ेंगे,

तो झूठ के इस समुद्र आपको सत्य को स्वयं खोजो



kamal kishore"kafir"


0 दृश्य0 टिप्पणी

हाल ही के पोस्ट्स

सभी देखें

Opmerkingen


bottom of page